चुन चुन कर आगे बढूंगा, तुम कब तक मुझे रोकोगे गौतम जी।